लम्हे ज़िंदगी के

- Lamhe Zindagi Ke

Hindi Poetry by Nikhil Kapoor

Nikhil Kapoor

Nikhil Kapoor

लेखक पेशे से एक फैशन डिजाइनर हैं, और वर्तमान में PRATPSONS जयपुर में काम कर रहे हैं। रिश्तों, उनके अस्तित्व और उनकी मर्या दाओं पर उठाए जाने वाले सवाल उनके मन में एक अजीब सी घुटन भर देते हैं।

किसी भी रिश्ते के बेनाम होने पर उठने वाले सवाल, उनको मर्या दाओं में बांध कर उन्हें सुरक्षित कर लेना।

कहां लिखा है, कि आप के वल एक बार प्यार कर सकते हैं, आप एक ही समय में एक से अधिक लोगों से प्यार नहीं कर सकते। यह पुस्तक भावनाओं का एक प्रवाह है जिसने शब्दों का आकार लिया।

Books

Mayane

मायने?

जिंदगी, सिगरेट और ऐशट्रे

आज कुछ सड़कों ने करवटें ली हैं​

Poems

Youtube Videos

Artwork

"ज़िंदगी, धुआँ और ख्वाब"