नाचती रही बातें

नाचती रही बातें

” नाचती रही बातें ,

गई रात सपनों की हथेली थाम के ,

जाने क्यों दिन में ,

इनकी जुबाँ चलती रहती है ।”

निखिल 

Leave a Reply