क्या तुम्हे मैं , अब भी याद आती हूं ।

क्या तुम्हे मैं , अब भी याद आती हूं ।

” क्या तुम्हे मैं ,
अब भी याद आती हूं ।
या फिर उन कागजों को तुमने
एक खाली फाइल में पंच कर किसी ड्रॉअर में रख दिया है ।
तुम्हे शायद याद होगा ,
उस वकील और उस जज का नाम ,
तुम्हारे रिटर्न्स में ,
उनके नाम की कुछ रसीदें लगी होंगी ,
पर , 
क्या तुम्हे मैं ,
अब भी याद आती हूं ।
बगैर धड़कन की वो जिरह बहस
 जिसने और भी उलझा दिया उस “कुछ” को ,
जिसे बस एक निब से ” ख़त्म ” लिख दिया ,
एक तीसरे शख्स ने ,
तुम्हे शायद याद होगा हर उलझन का
 सिर्फ और सिर्फ एक हस्ताक्षर से सुलझ जाना ।
पर ,
क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
बहुत बधाइयां मिली होंगी तुम्हे
एक जंजाल से आजाद होने पर ,
पर चादर पर पड़ी सिलवटें
 रात भर तुम्हे बहुत परेशान करती होंगी ।
पूरे वॉर्डरोब में टंगे तुम बहुत आजाद होगे
 हैंगर से नीचे गिरी कमीजों पर
 मगर दुबारा टंगने की उम्मीद के निशान होंगे ।
पर
 क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
मगर मैं अब तुम्हे याद नहीं करती ,
शायद मैं अब तुम्हे जीने लगी हूं ,
जाने कितने टुकड़े है मेरे बैग में ,
तुम्हारी  बची हुई सिगरेट के ,
जिन्हें मैं कश कश पीने लगी हूं ,
हां ,
मगर अब मैं किसी के हाथों से सिगरेट छीन कर फेंकती नहीं हूं ।
पर
क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
देखो मैं आज भी खुश हूं पार्टी करती हूं ,
जिंदगी जीती हूं ।
किसी ना किसी के साथ बिस्तर भी बांट लेती हूं ,
तुम मगर अब भीड़ में इतने अकेले क्यूं नजर आते हो ।
पर
क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
देखो ,
अगर कभी मैं तुम्हे रास्ते में अकेली दिख जाऊं,
तो बेझिझक मुझे लिफ्ट दे देना ,
अब तो तुम समझ ही गए होंगे ,
चुके हुए रिश्ते ले कर चलने की मुझे आदत नहीं है ।
पर क्या मैं तुम्हे अब भी याद आती हूं ।”

Hindi Poetry by Nikhil Kapoor
Blog: Lamhe Zindagi Ke


Social Media Links
Facebook
Instagram
Youtube

This Post Has 20 Comments

  1. Sanjay Mehrotra

    Excellent hindi poem by Nikhil. Well meaning?

    1. nikhilkapoor65

      Thanks

      1. Vinod Kumar Tuteja

        Well defined

  2. Vandana Khanna

    Beautiful poem ?

    1. nikhilkapoor65

      Thank you ❤️

  3. Arpan Christy

    Kya baat hai bade bhaiyaa! ❤️

    1. nikhilkapoor65

      Thank you ❤️

  4. शालिनी मेहरोत्रा

    शब्दों के सुन्दर समन्वय द्वारा भावनाओं का अदभुत चित्रण।भाई हमेशा एैसे ही लिखते रहो।

  5. Chakshu Fulwani

    Amazing ?

    1. nikhilkapoor65

      Thanks ❤️❤️

      1. Anjul Grover

        Beautiful poems!! Nikhil

      2. Anjul Grover

        Enjoyed your poems

  6. gurpreet kapoor

    very nice lines

  7. Vidya vathi

    बहुत खूब समीक्षा है आज की जीवनशैली की भावनाओं में उलझा आज़ाद परिंदें से जीवन की छटपटाहट हैं।

    1. nikhilkapoor65

      Thank you so much. 🙂

  8. padma chauhan

    very nice bahiya
    amazing

    1. nikhilkapoor65

      Thank you so much. 🙂

  9. Seema Mittal

    Wonderful Poem

  10. C.Tripathi

    Bahut sunder

  11. Anjul

    Great poetry!!?

Leave a Reply