एक अरसा हुआ है

एक अरसा हुआ है

“ एक अरसा हुआ है ,
उससे बातें हुए ,
दर्द की सुई में भी जंग लगने लगी है ,
उधड़े रिश्तों की अब तुरपाई करूँ कैसे “
Hindi Poetry by Nikhil Kapoor
Blog: Lamhe Zindagi Ke

Social Media Links
Facebook
Instagram
Youtube Channel

Leave a Reply