उम्र के निशान ,red rose on the streets. Lamhe Zindagi Ke, Hindi Poetry on Life

उम्र के निशान

Poem: उम्र के निशान ” इंद्रधनुषी रंगों से भरे , बुलबुले से सपने , रात की नाभि पर ,नींद भर लट्टूओं सा नाचते रहे ।सुबह की उंगली क्या लगी ,फूट कर अंधेरों …

तवायफ - A bronze lady statue

तवायफ

बिछुए की पकड़ में सुना है कुछ ख्वाब बंधे बैठे हैं,गीले अलते के निशाँ सपनों की पगडण्डी पे नहीं मिलते।कुछ चौखटें हैं जो जाने कब से लांघी नहीं गयीं,सुनो इनके …

ऐ ज़िंदगी - park Gate

ऐ ज़िंदगी 

ऐ ज़िंदगी तेरी साँसों मे उलझे उलझे से कुछ सवाल हैं कुछ जवाब हैं हर दिन पास से गुज़र जाती हैतूकुछ यूँकुछ यूँजैसे शाम की कटोरी मेंचिल्लारों के कुछ ख़्वाब हैं ।ऐ ज़िंदगीतेरी साँसों …

आज का एक पन्ना - fountain pen

आज का एक पन्ना ख़ाली ही छोड़ दिया

आज का एक पन्ना ख़ाली ही छोड़ दिया , मैंने मेरे बाद तुम्हें इसकी आदत डालनी होगी , श्याही काम नहीं हुई है मेरी बातों की अभी , बस मेरे …

कुछ ख़ामोशियाँ , Loneliness

कुछ ख़ामोशियाँ अजीब होती हैं

कुछ ख़ामोशियाँ अजीब होती हैं , शब्द मौन होते हैं , आँखें बोलती हैं । जहाँ तक रूह देखती है , तेरी ही आवाज़ नज़र आती है । मैं मौन …

दिन आज कुछ , scientist and writer

दिन आज कुछ ख़ाली ख़ाली सा है

दिन आज कुछ ख़ाली ख़ाली सा है , जैसे ख़ाली लिफ़ाफ़े में उँगलियाँ , किसी लापता ख़त को टटोल रही हों , पता है , जानता है दिल , कहीं …