क्या तुम्हे मैं , अब भी याद आती हूं ।
Long Poems

क्या तुम्हे मैं , अब भी याद आती हूं ।

” क्या तुम्हे मैं ,
अब भी याद आती हूं ।
या फिर उन कागजों को तुमने
एक खाली फाइल में पंच कर किसी ड्रॉअर में रख दिया है ।
तुम्हे शायद याद होगा ,
उस वकील और उस जज का नाम ,
तुम्हारे रिटर्न्स में ,
उनके नाम की कुछ रसीदें लगी होंगी ,
पर , 
क्या तुम्हे मैं ,
अब भी याद आती हूं ।
बगैर धड़कन की वो जिरह बहस
 जिसने और भी उलझा दिया उस “कुछ” को ,
जिसे बस एक निब से ” ख़त्म ” लिख दिया ,
एक तीसरे शख्स ने ,
तुम्हे शायद याद होगा हर उलझन का
 सिर्फ और सिर्फ एक हस्ताक्षर से सुलझ जाना ।
पर ,
क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
बहुत बधाइयां मिली होंगी तुम्हे
एक जंजाल से आजाद होने पर ,
पर चादर पर पड़ी सिलवटें
 रात भर तुम्हे बहुत परेशान करती होंगी ।
पूरे वॉर्डरोब में टंगे तुम बहुत आजाद होगे
 हैंगर से नीचे गिरी कमीजों पर
 मगर दुबारा टंगने की उम्मीद के निशान होंगे ।
पर
 क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
मगर मैं अब तुम्हे याद नहीं करती ,
शायद मैं अब तुम्हे जीने लगी हूं ,
जाने कितने टुकड़े है मेरे बैग में ,
तुम्हारी  बची हुई सिगरेट के ,
जिन्हें मैं कश कश पीने लगी हूं ,
हां ,
मगर अब मैं किसी के हाथों से सिगरेट छीन कर फेंकती नहीं हूं ।
पर
क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
देखो मैं आज भी खुश हूं पार्टी करती हूं ,
जिंदगी जीती हूं ।
किसी ना किसी के साथ बिस्तर भी बांट लेती हूं ,
तुम मगर अब भीड़ में इतने अकेले क्यूं नजर आते हो ।
पर
क्या तुम्हे मैं अब भी याद आती हूं ।
देखो ,
अगर कभी मैं तुम्हे रास्ते में अकेली दिख जाऊं,
तो बेझिझक मुझे लिफ्ट दे देना ,
अब तो तुम समझ ही गए होंगे ,
चुके हुए रिश्ते ले कर चलने की मुझे आदत नहीं है ।
पर क्या मैं तुम्हे अब भी याद आती हूं ।”

Hindi Poetry by Nikhil Kapoor
Blog: Lamhe Zindagi Ke


Social Media Links
Facebook
Instagram
Youtube

You may also like...

20 Comments

  1. Sanjay Mehrotra says:

    Excellent hindi poem by Nikhil. Well meaning?

    1. nikhilkapoor65 says:

      Thanks

      1. Vinod Kumar Tuteja says:

        Well defined

  2. Vandana Khanna says:

    Beautiful poem ?

    1. nikhilkapoor65 says:

      Thank you ❤️

  3. Arpan Christy says:

    Kya baat hai bade bhaiyaa! ❤️

    1. nikhilkapoor65 says:

      Thank you ❤️

  4. शालिनी मेहरोत्रा says:

    शब्दों के सुन्दर समन्वय द्वारा भावनाओं का अदभुत चित्रण।भाई हमेशा एैसे ही लिखते रहो।

  5. Chakshu Fulwani says:

    Amazing ?

    1. nikhilkapoor65 says:

      Thanks ❤️❤️

      1. Anjul Grover says:

        Beautiful poems!! Nikhil

      2. Anjul Grover says:

        Enjoyed your poems

  6. gurpreet kapoor says:

    very nice lines

  7. Vidya vathi says:

    बहुत खूब समीक्षा है आज की जीवनशैली की भावनाओं में उलझा आज़ाद परिंदें से जीवन की छटपटाहट हैं।

    1. nikhilkapoor65 says:

      Thank you so much. 🙂

  8. padma chauhan says:

    very nice bahiya
    amazing

    1. nikhilkapoor65 says:

      Thank you so much. 🙂

  9. Seema Mittal says:

    Wonderful Poem

  10. C.Tripathi says:

    Bahut sunder

  11. Anjul says:

    Great poetry!!?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *