मृत्यु, bonsai tree
Philosophy

मृत्यु

” मृत्यु को जीवन का अंत समझ लेना हमारे अंदर मृत्यु के प्रति भय को जन्म देता है ,
और इस भय से होती है मोह की उत्पत्ति ,
और मोह से उत्पन्न होती है कर्मों की उलटी गिनती “

Hindi Poetry by Nikhil Kapoor
Blog: Lamhe Zindagi Ke

Social Media Links
Facebook
Instagram
Youtube

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *