देखना मेरे यार , Pokemon drawing
देखना मेरे यार ,
जब इस ज़हां से गुज़र जाऊँगा ,
तुझे याद बहुत याद आऊँगा ,
जब जब खोलेगा मेरी यादों का अल्बम तू ,
तेरी साँसों पे आँसू बन बिखर जाऊँगा ,
जा दफ़ना दी आज ,
दोस्ती की ये अल्बम मैंने ,
अब बस तेरे सपनों में आ कर ,
गुदगुदाऊँगा और हँसाऊँगा ।
 ये जितना बाक़ी रहा याराना तेरा मेरा ,
दूर समय के किसी मोड़ पे ,
एक नए जिस्म में ,
दुबारा इस हथेली को फैला ,
तुझसे अपनी यारी वापस माँगने आऊँगा ।
जा अब भूल जा मुझे ,
एक अजनबी बन
मैं
फिर एक बार तुझे अपना बनाऊँगा ।”
यार मेरे मैं फिर आऊँगा ।”
 

Hindi Poetry by Nikhil Kapoor
Blog: Lamhe Zindagi Ke

Social Media Links
Facebook
Instagram
Youtube Channel